Connect with us

ताजा

पालघर में मॉनसून की दस्तक, भारी बारिश से कई इलाकों में भरा पानी,विविसीएमसी की नालासफाई पर खुली पोल

वसई विरार में सुबह से झमाझम बारिश हो रही है जिसके चलते जगह-जगह जलभराव हो गया है।मॉनसून के आगमन के साथ ही वसई तालुका के लिए खतरे की घंटी भी बज गई है। बुधवार को वसई अर्नाला सागरी इलाके में हाई टाइड की चेतावनी जारी की गई है। साथ ही समुंद्र में हाई टाइड के उठने का भी अनुमान है। ऐसे में इलाके समुंद्र के किनारे के इलाकों को खाली करवा लिया गया है।साथ ही कई टीमें नजर बनाए हुए हैं।

Published

on

वसई विरार में सुबह से झमाझम बारिश हो रही है जिसके चलते जगह-जगह जलभराव हो गया है।मॉनसून के आगमन के साथ ही वसई तालुका के लिए खतरे की घंटी भी बज गई है। बुधवार को वसई अर्नाला सागरी इलाके में हाई टाइड की चेतावनी जारी की गई है। साथ ही समुंद्र में हाई टाइड के उठने का भी अनुमान है। ऐसे में इलाके समुंद्र के किनारे के इलाकों को खाली करवा लिया गया है।साथ ही कई टीमें नजर बनाए हुए हैं।
कई इलाकों में सड़कें जलमग्न
मुंबई सहित वसई विरार में मॉनसून के पहुंचने की तारीख 10 जून थी,लेकिन इस बार समय से एक दिन पहले मॉनसून का आगमन हुआ है।इससे पहले मंगलवार और बुधवार को  मॉनसून की बारिश ने वसई विरार को पानी-पानी कर दिया। कई इलाकों में सड़कें जलमग्न हो गईं, जिसके कारण यातायात भी कई जगह बाधित रहा। वसई तालुका के सनसिटी,अचोले में सड़कों पर जल जमाव दिखा।ऐसे में वसई विरार की भारी बारिश के चलते नालासफाई की पॉल खोलकर रख दी।अधिकारियों ने कागजो पर करोड़ो रुपये खर्च दिखाकर अपने घर मे एसो आराम है लेकिन ग्रामीण शहरो के इलाके में भारी बारिश से जो नुकसान हो रहा है उसका 1 रुपये का अंदाजा नही है। इन स्थानों पर क़रीब दो फुट तक जलजमाव की वजह से इनमे अचोले रोड,प्रगती नगर,टाकी रोड,समेल पाड़ा, वसई सनसिटी अग्रवाल,पापडी गांव, विरार ओल्ड विवा कॉलेज,बोलिंज,आगाशी,यशवंत नगर,ग्लोबल सिटी ,सहकार नगर,फुलपाड़ा डेम जैसे इलाके में जलमग्न हो गया है।इससे कर्मचारियों व चालको को परेशानी झेलनी पड़ रही है।इस साल मानसून के मौसम की पहली बारिश से मुंबई के अलग-अलग हिस्सों में जलजमाव की स्थिति बन गई, जिसके बाद यातायात में कहीं-कहीं बाइक सवारों को भी मजबूरी में वाहन को सड़क पर ही छोड़ना पड़ा।  वसई विरार शहर महानगरपालिका ने इस साल शत प्रतिशत पानी नही भरने का दावा किया था,जिसमे महानगरपालिका ने विभिन्न इलाकों पर जलभराव के निकासी के लिए नए सिरे से नालो का निर्माण किया था।पालिका ने दौरान सभी नालो का जायजा लेकर जलभराव वाले इलाके में नालो की चौड़ाई भी किया और निचले इलाकों में सड़को का निर्माण भी किया।ऐसे में मंगलवार व बुधवार की भारी बारिश के चलते अधिकारियों की दावो की पोल खोलकर तख्ते पर रख दिया।

वसई में झील और बांध के पास जाने पर रोक
पालघर जिले में प्रशासन ने क्षेत्र में मानसून की शुरुआत के मद्देनजर झरनों, झीलों और बांधों के पास लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिला कलेक्टर डॉ माणिक गुरसल, ने क्षेत्र में जलाशयों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए आदेश जारी किया है।आदेश में जिले के कुछ खतरनाक स्थानों की सूचीत की गई है और लोगों से कहा गया है कि वे मानसून के दौरान इन स्थानों पर न जाएं।पालघर जिले में प्रशासन ने क्षेत्र में मानसून की शुरुआत के मद्देनजर झरनों, झीलों और बांधों के पास लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिला कलेक्टर डॉ माणिक गुरसल, ने क्षेत्र में जलाशयों पर दुर्घटनाओं को रोकने के लिए आदेश जारी किया है।आदेश में जिले के कुछ खतरनाक स्थानों की सूचीत की गई है और लोगों से कहा गया है कि वे मानसून के दौरान इन स्थानों पर न जाएं।

पालघर जिले में कुछ निचले इलाकों में जल भराव की खबरें हैं। हालांकि पालघर व डहाणू लोकल ट्रेन सेवाओं पर कोई असर नहीं पड़ा है जबकि ग्रामीण जव्हार ,मौखाडा,कासा,वाडा में कुछ हिस्सो में भारी बारिश हुई है।

वसई विरार परिमंडल 3 के संजय पाटील ने कहा कि वह बिना कारण घर से बाहर न निकलें और जलजमाव वाले इलाक़ों में जाने से बचें। लेकिन मोटरसाइकिल और अन्य वाहनों के चालक जलजमाव वाले कुछ स्थानों पर वाहन आगे ले जाने में असमर्थ हो गए।ऐसे में 4 दिनों तक बारिस है।जिससे अपने आसपास के बिजली ख़म्बे से दूर रहे, लोगो का ध्यान रखे।यह आदेश सीआरपीसी की धारा 144, महामारी अधिनियम और आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जारी किया गया है.   

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2021 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited