Connect with us

ताजा

आयकर पोर्टल समस्या सुलझाने वित्त मंत्रालय के अधिकारी और इन्फोसिस की टीम के साथ 22 जून को बैठक

वित्त मंत्रालय के अधिकारी नये आयकर ई-फाइलिंग पोर्टल से जुड़े मामलों और तकनीकी खामियों पर चर्चा के लिये 22 जून को इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी इन्फोसिस के प्रतिनिधियो के साथ बैठक करेंगे । तकनीकी खामियों के कारण उपयोगकर्ताओं को इस पोर्टल के शुरू होने के एक सप्ताह बाद भी समस्याओं को सामना करना पड़ रहा है।

Published

on

Meeting with Finance Ministry officials and Infosys team on June 22 to solve income tax portal problem

आयकर पोर्टल समस्या सुलझाने वित्त मंत्रालय के अधिकारी और इन्फोसिस की टीम के साथ 22 जून को बैठक

वित्त मंत्रालय के अधिकारी नये आयकर ई-फाइलिंग पोर्टल से जुड़े मामलों और तकनीकी खामियों पर चर्चा के लिये 22 जून को इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी कंपनी इन्फोसिस के प्रतिनिधियो के साथ बैठक करेंगे । तकनीकी खामियों के कारण उपयोगकर्ताओं को इस पोर्टल के शुरू होने के एक सप्ताह बाद भी समस्याओं को सामना करना पड़ रहा है।  

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि “चार्टर्ड एकाउटेंट की अपैक्स बॉडी इंस्टिट्यूट ऑफ़ चार्टर्ड एकाउंटेंट्स ऑफ़ इंडिया (आईसीएआई), ऑडिटर, परामर्शदाता और करदाता भी इस बैठक में शामिल होंगे। इस दौरान इन्फोसिस की टीम सवालों के जवाब देगी, समस्याओं के बारे में चीजें स्पष्ट करेगी और पोर्टल के बारे में उनकी राय जानेगी’’
बयान में कहा कि, ‘‘वित्त मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी हाल में शुरू आयकर विभाग के ई-फाइलिंग पोर्टल पर आ रही तकनीकी खामियों के बारे में 22 जून, 2021 को सुबह 11:00 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक इन्फोसिस की टीम बैठक करेंगे.’’ इस बैठक के दौरान बातचीत में आईसीएआई के सदस्य, ऑडिटर, परामर्शदाता और करदाता भी शामिल होंगे। 

नया पोर्टल डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यू.इंकमटैक्स.गॉव़ इन (www.incometax.gov.in) सात जून को चालू किया गया था, आयकर विभाग और सरकार ने कहा कि इसका मकसद करदाताओं के लिये सरल और सुगम बनाना है । लेकिन शुरू होते ही कुछ ही समय बाद उपयोगकर्ताओं की कई शिकायतें आ गयीं। एक सप्ताह बाद भी तकनीकी खामियां पूरी तरह से दूर नहीं हुई है ।

इन्फोसिस को 2019 में अगली पीढ़ी की आयकर फाइलिंग प्रणाली तैयार करने का कॉन्ट्रैक्ट दिया गया था। इसका मकसद रिटर्न के प्रोसेस की प्रक्रिया में लगने वाले 63 दिन के समय को कम कर एक दिन करने और ‘रिफंड’ प्रकिया को तेज करना है।

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2021 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited