Connect with us

ताजा

“भारतीय एजेंटों ने अपहरण किया और बहुत पीटा,” भगोड़े मेहुल चोकसी ने कहा

चोकसी ने यह भी आरोप लगाया कि अधिकारियों ने उसे बहुत पिटा। एक अखबार को दिए एक बयान में, चोकसी ने कहा कि उसे 23 मई की रात को एंटीगुआ के कैरिबियन द्वीप से अपहरण कर लिया गया था, जहां से उसे जबरन एक नाव पर डोमिनिका द्वीप पर ले जाया गया था।

Published

on

"Indian agents kidnapped and thrashed a lot," said fugitive Mehul Choksi

एंटीगुआ और बारबुडा से लापता होकर कुछ दिनों बाद डोमिनिका में पकड़े जाने के बाद भगोड़े हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी ने कहा है कि उसे भारतीय एजेंटों ने अपहरण कर लिया था और जब भी उसने विरोध किया तो उसे एक टेसर बंदूक से झटका दिया गया। 

अपने बयान में मेहुल चोकसी ने कहा, कि एंटीगुआ में उसकी एक दोस्त बारबरा जबरिका ने उसे अपने घर पर आमंत्रित किया था। बता दें 13 हज़ार 500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) लोन धोखाधड़ी मामले में भारत में वांछित है। वह 2018 से एंटीगुआ और बारबुडा में रह रहा है। 2017 में निवेश कार्यक्रम द्वारा नागरिकता के तहत उसने ऐंटीग्वा की नागरिकता ले रखी है।

और भी पड़ें: ड्यूटी के दौरान पुलिस पदाधिकारियों व कर्मियों द्वारा मोबाइल फोन बेवजह इस्तेमाल करने पर रोक

चोकसी ने अपनी आप बीती बताते हुए कहा, ” दोस्त के बुलाने पर मैं उसके घर में गया … तीन मिनट में लगभग 8 से 10 लोग थे … और उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि आप कौन हैं और आपको अभी हमारे साथ जांच के लिए जाना है … उन्होंने मुझे पकड़ लिया और मैंने उनके खिलाफ लड़ने की कोशिश की, लेकिन यह बहुत,  बहुत कठिन था … वे हर तरफ से मेरे पास आए, उन्होंने मेरे हाथ, मेरे पैर और सब कुछ को बांध दिया।”
अपने बयान में चोकसी ने आरोप लगाते हुए आगे कहा, “फिर वे एक व्हीलचेयर लाए … उन्होंने एक कहानी बनाने की कोशिश की और  एंटीगुआ की पुलिस भी इसमें शामिल थी … उनमें से आधे भारत से थे, सेना के लोगों की तरह बहुत मजबूत … और उन्होंने मुझे व्हील चेयर पर डाल दिया और जब भी मैं लड़ रहा था, वे मुझे एक टसर के साथ झटका देते … उन्होंने मुझे पीछे से, मेरे पैर और मेरे शरीर, मेरे हाथ, सब कुछ बांध दिया। और उन्होंने मेरे चेहरे पर एक बहुत बड़ा प्लास्टिक बैग डाल दिया।”
चोकसी ने अख़बार को बयान देते हुए आगे कहा की,”फिर उन्होंने एक मुखौटा लिया और मेरे सिर को ढँक दिया … और उन्होंने मुझे एक नाव में पूरी व्हीलचेयर के साथ बिठा दिया, फिर उन्होंने मुझे एक बड़ी नाव, एक बहुत बड़ी नाव पर बिठाया … वहा दो भारतीय थे। उन्होंने कहा कि वे भारत के एजेंट थे। जो दो सज्जन मेरे साथ थे, वे थे गुरजीत सिंह और एक और नाम था।” 

और भी पड़ें: हाई स्पीड बुलेट ट्रेन के लिए नदियों में शुरू हुई साइल टेस्टिंग
“नाव में आखिरी घंटे में, मुझे एक भारतीय अधिकारी का फोन आया। उसने कहा कि उसका नाम नरेंद्र सिंह है। वह मेरे मामले पर है। और उसने कहा कि जब आपसे पूछा जाए, जब डोमिनिका में आपकी पूछताछ होती है, तो कहें कि यह सारा मामला आपकी सहमति से हुआ… उन्होंने मुझे पीटा, टेजर का इस्तेमाल किया। और डोमिनिका आने के बाद, यह एक अविश्वसनीय अनुभव था। अगले कुछ दिनों तक मैं जिस जिस चीज से गुजरा, वह इतना असहयोग था और इतना बुरा अनुभव कि मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता।”

बता दें, भगोड़ा मेहुल चोकसी 23 मई को एंटीगुआ से लापता हो गया था, जिसके बाद बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया गया था फिर  उसे 26 मई को डोमिनिका में पकड़ा गया था।
हालाँकि, डोमिनिका की एक अदालत ने चोकसी के वकीलों द्वारा दायर हेबस कॉर्पस याचिका पर सुनवाई करते हुए अगले आदेश तक उसके प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है। पिछले सप्ताह गुरुवार को, चोकसी की पहली तस्वीरें ऑनलाइन सामने आईं थी जिसमें उनकी बाहों पर चोट के निशान और सूजी हुई आंख दिखाई दे रही थी।

मेहुल चोकसी 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ऋण धोखाधड़ी मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा भारत में वांछित है। सीबीआई द्वारा मामला दर्ज करने से कुछ दिन पहले वह जनवरी 2018 में एंटीगुआ शिफ्ट हो गया था। भारत में उसके वकील विजय अग्रवाल ने बताया, “चोकसी को एंटीगुआ से एक जहाज में चढ़ने के लिए मजबूर किया गया और उसे डोमिनिका ले जाया गया। उसने यह भी दावा किया कि चोकसी के शरीर पर बल प्रयोग के निशान थे।”

वकील ने कहा, “कुछ गड़बड़ है और मुझे लगता है कि उसे दूसरी जगह ले जाने की रणनीति थी ताकि उसे भारत वापस भेजने की संभावना हो। इसलिए मुझे नहीं पता कि कौन सी ताकतें काम कर रही हैं समय आने पर पता चलेगा।” .

हालांकि, एंटीगुआ के पुलिस आयुक्त एटली रॉडने ने चोकसी के वकील के दावों को खारिज कर दिया और कहा कि उन्हें जबरन हटाए जाने की कोई जानकारी नहीं है। इसी बीच चोकसी के प्रत्यर्पण के लिए भारतीय अधिकारियों की आठ सदस्यीय टीम भी एक निजी जेट से डोमिनिका में उतरी है जो उसे वापस भारत लाने का लगातार प्रयास कर रही है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2021 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited