Connect with us

ताजा

ऑनलाइन फ्रॉड पर नकेल कसने के लिए दिल्ली पुलिस ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर; जानिए कैसे कर सकते है उसका उपयोग

अगर आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं, तो आपको बेहद सतर्क रहने की जरूरत है। बीते कुछ महीनों में e-KYC स्कैम और इससे जुड़े फ्रॉड के कई मामले सामने आए हैं।

Published

on

Delhi Police issues helpline number to crack down on online fraud; Know how you can use it

अगर आप ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं, तो आपको बेहद सतर्क रहने की जरूरत है। बीते कुछ महीनों में e-KYC स्कैम और इससे जुड़े फ्रॉड के कई मामले सामने आए हैं। इनमें साइबर क्रिमिनल्स UPI के जरिए यूजर के खाते में जमा पैसों की चोरी कर लेते हैं। ऐसे मामलों से निपटने के लिए दिल्ली पुलिस की साइबर क्राइम डिविजन ने यूजर्स को 155260 पर कॉल करके शिकायत दर्ज कराने सलाह दी है।

तुरंत सूचना देने पर वापस मिल सकते हैं पैसे  – 

दिल्ली पुलिस ने भरोसा दिलाया है कि इस नंबर पर शिकायत दर्ज कराने वाले विक्टिम को तत्काल मदद मिलेगी। हालांकि, दिल्ली पुलिस ने डीटेल में यह नहीं बताया कि वह पीड़ित की किस प्रकार सहायता करेगी। दिल्ली पुलिस ने दावा किया है कि ऑनलाइन फाइनेंशियल फ्रॉड की स्थिति में इस नंबर पर तुरंत कॉल करने से पैसे वापस मिल सकते हैं।

जालसाजों तक नहीं पहुंचने दिए फ्रॉड के 1.85 करोड़ रुपये – 

लॉन्च के बाद से अब तक इस हेल्पलाइन ने साइबर क्रिमिनल्स तक फ्रॉड के 1.85 करोड़ रुपये को पहुंचने से रोकने में काफी मदद की है। यह हेल्पलाइन अभी छत्तीसगढ़, दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में इस्तेमाल की जा रही है।

हेल्पलाइन से जुड़े बड़े बैंक और वॉलेट – 

गृह मंत्रालय के एक बयान के मुताबिक इस हेल्पलाइन से पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर के लगभग सारे बैंक जुड़े हुए हैं। इनमें एसबीआई, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ इंडिया, यूनियन बैंक, इंडसइंड बैंक, एचडीएफसी बैंक, ICICI बैंक, ऐक्सिस बैंक, येस और कोटक महिंद्रा बैंक भी शामिल हैं। इतना ही नहीं, इस हेल्पलाइन से पेटीएम, फोनपे, MobiKwik, फ्लिपकार्ट और ऐमजॉन जैसे मुख्य वॉलिट और मर्चेंट्स को भी जोड़ा गया है।   

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2021 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited