Connect with us

ताजा

केंद्र सरकार ने आईडीबीआई बैंक की स्ट्रैटेजीक सेल में मदद करने के लिये रिक्वेस्ट फोर प्रोपोजल मंगवाया

केंद्र सरकार ने आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) की स्ट्रैटेजीक सेल में मदद करने के लिये रिक्वेस्ट फोर प्रोपोजल (RFP) मंगवाया गया है । यह प्रोपोजल ट्रांजेक्शन एडवाइजर (Transection Advisor) और लीगल एडवाइजर (Legal Advisor) की नियुक्ति के लिए है। सरकार ने इनसे मंगलवार को बोलियां आमंत्रित की है । केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने बीते मई में ही मैनेजमेंट कंट्रोल (Management Control) ट्रांसफर के साथ आईडीबीआई बैंक के स्ट्रैटेजीक सेल को लेकर सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी ।

Published

on

Central government invites request for proposal to help IDBI Bank in strategic sale

केंद्र सरकार ने आईडीबीआई बैंक (IDBI Bank) की स्ट्रैटेजीक सेल में मदद करने के लिये रिक्वेस्ट फोर प्रोपोजल (RFP) मंगवाया गया है । यह प्रोपोजल ट्रांजेक्शन एडवाइजर (Transection Advisor) और लीगल एडवाइजर (Legal Advisor) की नियुक्ति के लिए है। सरकार ने इनसे मंगलवार को बोलियां आमंत्रित की है । केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने बीते मई में ही मैनेजमेंट कंट्रोल (Management Control) ट्रांसफर के साथ आईडीबीआई बैंक के स्ट्रैटेजीक सेल को लेकर सैद्धांतिक मंजूरी दे दी थी ।

आईडीबीआई बैंक में वर्तमान में केन्द्र सरकार और भारतीय जीवन बीमा निगम (Life Insurance Corporation) दोनों की 94 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी है। इस समय बैंक का प्रबंधन नियंत्रण एलआईसी (LIC) के पास है। एलआईसी की बैंक में 49.24 प्रतिशत हिस्सेदारी है जबकि केंद्र सरकार 45.48 प्रतिशत की शेयरधारक है।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय में निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) ने इसकी जानकारी देते हुये कहा कि सौदा सलाहकारों और कानूनी सलाहकारों दोनों के लिये बोलियां सौंपने की अंतिम तिथि 13 जुलाई 2021 है । उससे पहले इन सलाहाकारों को अपना रिक्वेस्ट देना होगा। आईडीबीआई बैंक की रणनीतिक बिक्री में सौदा सलाहकार सरकार को सौदे के तौर तरीकों, विनिवेश के समय पर सलाह और सहायता उपलब्ध करायेगा। इस डिसइनवेस्टमेंट अथवा बिक्री में अन्य जरूरी मध्यस्थों की जरूरत के बारे में सिफारिश करेगा इसके साथ ही सौदे के लिये उचित शर्तों के साथ इनकी पहचान और चयन में भी मदद करेगा।

बोलियों के लिये जारी प्रस्ताव के लिये आग्रह (RFP) की पात्रता शर्तों में कहा गया है कि बोली वही कंपनी लगा सकेगी जिसने अप्रैल 2016 से लेकर मार्च 2021 के दौरान 5,000 करोड़ रुपये अथवा इससे अधिक आकार की रणनीतिक बिक्री, विनिवेश, विलय एवं अधिग्रहण गतिविधियों, निजी इक्विटी निवेश सौदों को लेकर सलाहकार(Advisor) का काम किया हो ।

Disclaimer: This post has been auto-published from an agency news helpline feed without any modifications to the text and has not been reviewed by an editor

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © 2021 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited