Connect with us

राजनीति

Delhi Meerut Rapid Rail – दिल्ली मेरठ कॉरिडोर पर पूर्णतया स्वदेशी रैपिड ट्रेन को एक विदेशी कंपनी चलाएगी

पहला ट्रेन सेट मिलने के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्रीय परिवहन निगम (एनसीआरटीसी) ने रैपिड ट्रेन का संचालन निजी हाथों में सौंप दिया है। इसके लिए एक-दो दिन में वर्क ऑर्डर भी दे दिया जाएगा।

Published

on

दिल्ली मेरठ कॉरिडोर पर पूर्णतया स्वदेशी रैपिड ट्रेन को एक विदेशी कंपनी चलाएगी

Delhi-Meerut Rapid Rail latest News – जानकारी के मुताबिक दिल्ली मेरठ कॉरिडोर पर रैपिड ट्रेन के संचालन और रखरखाव (ओएनएम) के लिए जर्मन कंपनी डीबी (दोशे भान) का चयन किया गया है. यही कंपनी इस ट्रैक पर ट्रेन चलाएगी और इसके बेहतर संचालन की जिम्मेदारी संभालेगी। एनसीआरटीसी की भूमिका निगरानी तक ही रहेगी।

दिल्ली मेरठ रैपिड रेल कॉरिडोर के बारे में सब कुछ

केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय में सचिव मनोज जोशी ने ओएनएम टेंडर की पुष्टि करते हुए मीडिया को बताया कि दिल्ली मेरठ कॉरिडोर परियोजना की लागत 30,274 करोड़ रुपये है. दिल्ली पानीपत और दिल्ली अलवर कॉरिडोर के लिए भी लगभग इतनी ही लागत का अनुमान है। उन्होंने कहा कि सरकारी खजाने से इतना पैसा गंवाने के बाद उसकी वापसी भी जरूरी है और परियोजना का बेहतर संचालन. इसलिए ट्रेन के संचालन की जिम्मेदारी एक पेशेवर कंपनी को देने का फैसला किया गया।

वहीं, एनसीआरटीसी के अधिकारियों ने कहा कि डीबी जर्मनी की बहुत बड़ी, पुरानी और अनुभवी कंपनी है। यह कंपनी वहां की पूरी ट्रेन व्यवस्था को संभाल रही है। ऐसी पेशेवर कंपनी के माध्यम से रैपिड ट्रेन का निर्बाध संचालन और विश्व स्तरीय रखरखाव भी सुनिश्चित किया जाएगा।

सूत्रों ने बताया कि ओएनएम टेंडर के चलते दिल्ली-मेरठ कॉरिडोर पर रैपिड ट्रेन यात्रा का किराया अभी तय नहीं हुआ है. दरअसल, इस संबंध में रैपिड ट्रेन चलाने वाली कंपनी की राय भी काफी मायने रखती है। संभावना है कि अब यह किराया भी कुछ महीनों में तय हो जाएगा। जोशी के मुताबिक किराया न तो बहुत ज्यादा होगा और न ही बहुत कम। ट्रेन की गति और सुविधाजनक यात्रा को ध्यान में रखते हुए इसे इस तरह से रखा जाएगा कि हर वर्ग इसे वहन कर सके।

🙏Support us 🙏
बड़ी मीडिया कंपनियों को खर्चो के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है उनके पास बहुत से साधन होते है , हमने अभी अभी इस इंडस्ट्री में शुरुआत की है और धन की चिंता किए बिना काम करने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आप जो भी खर्च कर सकते हैं, उसका समर्थन करें

Continue Reading

राजनीति

राहुल गांधी की हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा से मुलाकात हुई

तो वहीं कांग्रेसी विधायक कुलदीप बिश्नोई के सवाल पर विवेक बंसल ने कहा कि वे जल्द ही साथ दिखाई देंगे, कुछ खत्म नहीं हुआ। इस बैठक के बाद हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल ने कहा कि हरियाणा में कांग्रेस अब तीव्र गति से दौड़ती नजर आएगी

Published

on

राज्यसभा चुनाव पर राहुल गांधी ने कहा कि चुनौती कठिन है, परंतु हमें मिलकर काम करना है

वहीं हुड्‌डा गुट के विधायक नीरज शर्मा ने अपने अयोध्या प्रवास के दौरान दीपेंद्र हुड्‌डा को हरियाणा का भावी सीएम बताया। साथ ही कहा कि हरियाणा में इनके नेतृत्व में राम राज्य चलेगा। नीरज शर्मा के बयान को लेकर भी पार्टी मीटिंग में चर्चा हो सकती है और हुड्‌डा विरोधी खेमा इस पर नाराजगी जता सकता है। बैठक में पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्‌डा ने कहा कि शिविर के बाद नए अध्यक्षों ने उनका धन्यवाद किया। राहुल ने कहा कि लोगों के हितों को लेकर आवाज उठाए। कांग्रेस अपने संकल्प पत्र में एमएसपी की लीगल गारंटी देगी। राज्यसभा चुनावों को लेकर हुड्‌डा ने कहा कि हाईकमान जो फैसला करेगा, उस पर चर्चा करेंगे।  तो वहीं कांग्रेसी विधायक कुलदीप बिश्नोई के सवाल पर विवेक बंसल ने कहा कि वे जल्द ही साथ दिखाई देंगे, कुछ खत्म नहीं हुआ। इस बैठक के बाद हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल ने कहा कि हरियाणा में कांग्रेस अब तीव्र गति से दौड़ती नजर आएगी। सामूहिक रुप से हरियाणा कांग्रेस चुनौतियों का सामना करेगी। संगठन निर्माण जल्द होगा। कांग्रेस के प्रति लोगों की निष्ठा है। हरियाणा में राज्यसभा चुनाव पर उन्होंने टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। राहुल गांधी ने कहा कि चुनौती कठिन है। परंतु हमें मिलकर काम करना है।   दरअसल हरियाण में 27 अप्रैल को नए प्रदेशाध्यक्ष और चार कार्यकारी अध्यक्षों की घोषणा की गई थी। इसके बाद से कांग्रेसी विधायक कुलदीप बिश्नोई नाराज चल रहे हैं। उन्होंने राहुल से मुलाकात के बाद ही कोई फैसला करने का निर्णय लिया था, लेकिन अभी तक राहुल गांधी के साथ उनकी मुलाकात नहीं हुई। जबकि इससे पहले पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्‌डा, हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल और प्रदेशाध्यक्ष उदयभान की मुलाकात हो रही है। मीटिंग में कुलदीप बिश्नोई की नाराजगी पर भी चर्चा हो सकती है। उदयपुर में चिंतन शिविर के बाद हुड्‌डा की यह राहुल गांधी के साथ यह महत्वपूर्ण मुलाकात है। इस बैठक में कांग्रेस के हरियाणा प्रभारी विवेक बंसल, प्रदेशाध्यक्ष उदयभान, कार्यकारी अध्यक्ष जितेंद्र भारद्वाज, श्रुति चौधरी भी मौजूद रहे। 

🙏Support us 🙏
बड़ी मीडिया कंपनियों को खर्चो के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है उनके पास बहुत से साधन होते है , हमने अभी अभी इस इंडस्ट्री में शुरुआत की है और धन की चिंता किए बिना काम करने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आप जो भी खर्च कर सकते हैं, उसका समर्थन करें

Continue Reading

राजनीति

हाईकोर्ट ने बग्गा की गिरफ्तारी पर लगाई रोक: आयोग ने पंजाब के चीफ सेक्रेटरी को पत्र लिखकर इस मामले में 7 दिनों के भीतर विस्तृत रिपोर्ट सौंपने को कहा

कोर्ट ने अगले आदेश आदेश तक बग्गा के खिलाफ पंजाब पुलिस को किसी भी कार्रवाई पर रोक लगा दी है।

Published

on

कोर्ट ने अगले आदेश आदेश तक बग्गा के खिलाफ पंजाब पुलिस को किसी भी कार्रवाई पर रोक लगा दी है।

दिल्ली बीजेपी प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा  (Tajinder Pal Singh Bagga) को शनिवार (7 मई 2022) की देर रात पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट (Punjab & Haryana High Court)  से राहत मिली. अदालत ने पंजाब पुलिस को अगले आदेश तक बग्गा के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से रोक दिया है। दरअसल हाई कोर्ट ने मोहाली कोर्ट द्वारा बग्गा के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट के खिलाफ दाखिल अर्जी पर सुनवाई करते हुए यह बात कही.

इससे पहले पंजाब पुलिस ने भाजपा नेता को दिल्ली से गिरफ्तार किया था, लेकिन हरियाणा पुलिस ने रोक दिया। इसके बाद दिल्ली पुलिस ने उसे हरियाणा से छुड़ाया था। इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने पंजाब पुलिस के खिलाफ बग्गा के अपहरण का मामला भी दर्ज किया था.

इसके बाद मोहाली कोर्ट ने ताजा मामले में तजिंदर पाल सिंह बग्गा के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया और पंजाब पुलिस की साइबर क्राइम ब्रांच को उसे कोर्ट में पेश करने को कहा. बग्गा के खिलाफ धारा 153 ए, 505, 505 (2) और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद बग्गा के वकील ने हाईकोर्ट में अर्जी देकर आवश्यक सुनवाई की गुहार लगाई।


इसे भी पढ़ें – सर्वे और लकी ड्रा के नाम पर की जा रही ठगी; भूलकर भी न करें ऐसी गलती

पंजाब और हरियाणा कोर्ट ने शनिवार आधी रात को जस्टिस अनूप चितकारा के आवास पर मामले की तत्काल सुनवाई की और पंजाब पुलिस को मामले में बग्गा को राहत देते हुए कोई भी कार्रवाई करने से रोक दिया। इस मामले में अगली सुनवाई 10 मई को होगी।

बग्गा को कोर्ट से राहत मिलने के बाद उसके पिता प्रीतपाल सिंह बग्गा ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि तजिंदर को पंजाब हाई कोर्ट से राहत मिली है. पंजाब की आम आदमी पार्टी सरकार उन्हें किसी न किसी मामले में फंसाना चाहती है। वे एफआईआर दर्ज कराते रहेंगे, लेकिन हम रुकने वाले नहीं हैं। यह लड़ाई लंबी चलेगी.” वहीं, तेजस्वी सूर्या ने बग्गा की राहत पर ट्वीट किया- ”न्याय की एक और जीत.. कानून के राज की एक और जीत.”

उन्होंने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल बग्गा से डरते हैं क्योंकि वह अपने गलत कामों को उजागर कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि केजरीवाल ने भी तेजिंदर को आप में शामिल होने के लिए मनाने की कोशिश की, लेकिन वह शामिल नहीं हुए। इसके बाद उसे प्रताड़ित किया जाने लगा।

उधर, बग्गा को गिरफ्तार करते समय पंजाब पुलिस के जवानों ने उसे पगड़ी पहनने की इजाजत नहीं दी. राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने इस पर स्वत: संज्ञान लिया है। आयोग ने पंजाब के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर इस मामले में 7 दिनों के भीतर विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा है।

🙏Support us 🙏
बड़ी मीडिया कंपनियों को खर्चो के बारे में चिंता करने की ज़रूरत नहीं है उनके पास बहुत से साधन होते है , हमने अभी अभी इस इंडस्ट्री में शुरुआत की है और धन की चिंता किए बिना काम करने के लिए आपके समर्थन की आवश्यकता है। आप जो भी खर्च कर सकते हैं, उसका समर्थन करें

Continue Reading

Sponsored

Trending

Copyright © 2022 DigitalGaliyara (OPC) Private Limited